शादी में बुलवाया चुदवाने के लिए


Click to Download this video!
0
Loading...

प्रेषक : पारस …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम पारस है और मेरी उम्र 28 साल है और में अपने गोरे गठीले बदन, व्यहवार और हर एक औरत लड़की को अपनी मस्त चुदाई की वजह से पूरी तरह संतुष्ट करने के लिए ही पैदा हुआ हूँ। दोस्तों मैंने अभी तक जिनको भी चोदा है वो सभी मेरे लंड की महिमा को समझ सकती है और वैसे मेरा काम भी बस यही है। मैंने अब तक ना जाने कितनी चूत को अपने लंड से चोदकर शांत किया है। दोस्तों में चेन्नई में रहता हूँ और उसके पहले में अपनी पढ़ाई के लिए दिल्ली गया था और वहीं से मैंने चुदाई का काम शुरू किया था। मुझे हर कभी किसी ना किसी प्यासी चूत को शांत करने उसकी जमकर चुदाई करके खुश करने के लिए फोन आने लगे थे और में उनकी इच्छा को पूरी करके मन ही मन बहुत खुश था, लेकिन दिल्ली में होते हुए भी मुझे चेन्नई से बहुत बार फोन आते थे। फिर इसलिए मैंने एक बार सोचा कि चेन्नई में इस काम को करवाने वालों की कमी नहीं है और इसलिए क्यों ना चेन्नई जाकर ही यह काम किया जाए और इसलिए में वापस चेन्नई ही आ गया।

अब मेरा काम बहुत अच्छा चल रहा है मुझे हमारे पूरे देश से इस काम को करने के लिए फोन आते है और अक्सर कई बार बहुत बार इस तरह की रोचक और सेक्सी घटनाए मेरे साथ होती है जिन्हें में किसी को बता भी नहीं सकता, लेकिन कामुकता डॉट कॉम के माध्यम से अब में आप सभी को बता सकता हूँ और इसलिए लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद। दोस्तों चलो अब एक और सच्ची घटना को में सुनाना शुरू करता हूँ। एक बार मुझे चेन्नई से 29 साल की शादीशुदा लड़की का फोन आया, उन्होंने मुझे बताया कि वो एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करती है और अब वो मेरे साथ मज़े लेना चाहती है। फिर मैंने आने के लिए हाँ बोल दिया और उन्होंने मुझे तारीख बताई कि उस दिन शाम को आठ बजे के बाद आप मुझे मेरे मोबाइल पर फोन करना में बता दूँगी कि तुम्हे कहाँ आना है? उन्होंने मुझे अपने घर का पता नहीं बताया। अब मैंने उनको कहा कि ठीक है और में उनकी बताई तारीख पर शाम को पहुँच गया और उसके बाद में मैंने 8:30 बजे उनको फोन किया। फिर उन्होंने मुझे एक शादी गार्डन का पता बता दिया और बोला कि तुम यहाँ चले आओ और उधर पहुँचकर तुम मुझे फोन करना।

फिर में ऑटो से उस पते पर पहुँच गया और मुझे वो गार्डन मिल भी गया। मैंने बाहर से ही उन्हें फोन लगाया और अपना हुलिया बता दिया। अब उन्होंने मुझे बाहर ही रुकने के लिए कहा, बाहर बहुत भीड़ थी और बहुत सी गाड़ियाँ खड़ी हुई थी, वो शायद किसी पैसे वाले की शादी थी। फिर कुछ देर के बाद एक बहुत सुंदर 29 साल की गोरी लड़की साड़ी पहने हुए बालों में फूल लगाए हुए एकदम मस्त सजकर गेट से बाहर आई और वो अपने कान पर मोबाइल लगाए किसी को खोज रही थी। अब मेरे मोबाइल की घंटी बजी। अब तक वो मेरे पास पहुँच चुकी थी, इसलिए मेरे मोबाइल की घंटी उसको भी सुनाई दे गई और में अपनी जेब से मोबाइल को बाहर भी नहीं निकाल सका था कि उसने फोन करना बंद कर दिया। अब में भी उन्हें ही देख रहा था और फिर उन्होंने मेरे पास आकर खड़े होकर फिर दोबारा मेरे पास फोन किया और दोबारा से मेरा फोन बजने लगा। अब वो मुझे देखकर मुस्कुराने लगी और में भी मुस्कुराया गया। मोबाइल को बंद करके वो मेरे पास आ गई और अब उसने मुझसे पूछा क्या तुम ही पारस हो? मैंने कहा कि हाँ मेरा नाम ही पारस। फिर हम दोनों ने हाथ मिलाया, जिसके बाद उसने मुझे बताया कि यह मेरी एक बहुत अच्छी सहेली की शादी है और बस अभी कुछ देर में प्रोग्राम ख़त्म हो जाएगा।

अब तुम आओ मेरे साथ खाना खा लो, मैंने कहा कि हाँ ठीक है और अब में मन ही मन में हंस रहा था और सोच रहा था कि बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना। फिर में उसके साथ अंदर गया और उस भीड़ में शामिल हो गया, वो मुझे वहीं छोड़कर स्टेज पर चली गई और में खाना खाने लगा, लेकिन वो स्टेज से लगातार मुझे ही देखे जा रही थी और वैसे में भी उसको देख रहा था। दोस्तों वो एक 29 साल की सेक्सी लड़की थी, उसका जिस्म बहुत ही सेक्सी लग रहा था। वो बिल्कुल प्रिंयका चौपड़ा की तरह नजर आ रही थी। अब में खाना खा चुका था और एक कुर्सी पर बैठकर में बड़े आराम से कॉफी पीने लगा था, तभी मैंने देखा कि अब दूल्हा दुल्हन और सब लोग स्टेज से नीचे उतरकर खाना खाने के लिए जा रहे है। फिर इसने में वो उसी समय उन लोगों को छोड़कर मेरे पास आ गई और एक कॉफी लेकर मेरे पास वाली कुर्सी पर बैठ गई और हम दोनों उस समय भीड़ से बिल्कुल अलग बैठे हुए थे। अब हम दोनों कॉफी पीते हुए बातें करने लगे। उसने मुझसे पूछा कि आपको यहाँ पर आने में कोई परेशानी तो नहीं हुई? मैंने कहा कि नहीं में आते समय एक दो बार पूछते हुए आराम से यहाँ तक चला आया। अब उसने मुझे बताया कि यह मेरे बॉस की बेटी की शादी है और वो मेरी सहेली भी है, मेरे बॉस बहुत ही अमीर आदमी है।

फिर मैंने कहा कि हाँ यह सब इंतज़ाम देखने से ही पता चलता है कि यह बहुत बड़े आदमी की शादी है। अब उसने मुझे बताया कि यह जो आप दो आसपास महलनुमा कोठी देख रहे है ना, मैंने कहा कि हाँ मुझे नजर आ रही है। फिर वो बोली कि एक कोठी में लड़की वाले रुके है और एक में लड़के वाले हम सभी के लिए अलग अलग कमरे दिए गये है और अब यह स्टेज का काम खत्म होने के बाद फेरे का कार्यक्रम है और जहाँ यह काम होना है उधर भी मेरा एक कमरा है। अब वो कहने लगी कि यहाँ बहुत से लड़के लड़कियाँ है, किसी को हमारे ऊपर कोई शक नहीं होगा, क्योंकि यहाँ भीड़ इतनी है कि किसी को किसी के बारे में सोचने का समय ही नहीं है। दोस्तों में बड़े ही ध्यान से उसकी वो सभी बातें सुन रहा था और मैंने एक बात पर भी ध्यान दिया कि वो यह सब मुझसे बोल तो रही थी, लेकिन बोलते हुए उसकी साँसे फूल रही थी। अब में उसकी स्थिति को तुरंत समझ रहा था और फिर उसने मुझे बताया कि में मांगलिक हूँ और इस वजह से अभी तक मेरी शादी कहीं तय नहीं हो सकी है और मेरे साथ की सभी लड़कियों की शादी हो चुकी है और उनके अपने बच्चे भी है, लेकिन अब इस उम्र में सेक्स को लेकर मेरा क्या हाल हो रहा होगा, तुम अच्छी तरह से समझ सकते हो?

आज इसलिए मैंने तुमसे मिलने और यह सब करने के बारे में विचार किया, लेकिन यह हम दोनों की पहली और आखरी मुलाकात होगी। फिर में उसकी वो सभी बातें सुनने के बाद उसको बोला कि अगर कभी आप बाजार जाती है और अगर आपकी ठंडा पीने की इच्छा होती है और आप दुकान पर जाकर ठंडा पीती है, पैसे देती है और वापस अपने घर आ जाती है ना। अब वो बोली कि हाँ तो उसमे क्या नई बात है? अब आप मुझे एक बात बताओ कि आप वो गिलास अपने साथ घर क्यों नहीं लेकर आती हो जिसमे आपने ठंडा पिया था? अब वो कहने लगी कि मैंने क्योंकि वो गिलास नहीं खरीदा था, बस उसमे रखा हुआ ठंडा खरीदा था। फिर मैंने उनको कहा कि हाँ ऐसे ही आपने मेरे काम को खरीदा है मुझे नहीं और इसलिए आपसे आज के बाद मुझे कोई मतलब नहीं रहेगा, आप निश्चित रहे। अब वो मेरी पूरी बात को सुनकर मुस्कुराने लगी और हम दोनों करीब बीस मिनट तक वैसे ही बैठकर बातें करते रहे और फिर इस बीच दूल्हा दुल्हन उस कोठी की तरफ जाने लगे, जहाँ पर मंडप बना हुआ था और उधर ही उनका कमरा भी था। अब वो मुझसे बोली कि उठो और मेरे साथ में चलो, हम दोनों भी दूल्हा दुल्हन की भीड़ के साथ शामिल हो गये और मैंने देखा कि वो कोठी अंदर से भी बहुत अच्छी थी बिल्कुल फिल्मो के सेट की तरह नजर आ रही थी।

फिर हम दोनों अंदर पहुँचे और कुछ भीड़ में शामिल लोग इधर उधर हो गये। कुछ लड़के लड़कियाँ कपड़े बदलने के लिए अपने अपने कमरों में जाने लगे। अब दूल्हा दुल्हन और चार पांच लड़के, लड़कियाँ मंडप के पास बैठ गये और उसी समय प्रिया ने मुझे इशारा किया। फिर हम दोनों भी शांत होकर कमरे की तरफ उस भीड़ के साथ चले गये, प्रिया ने दरवाजा खोला और वो अंदर चली गई और में कुछ दूरी पर था। फिर सही मौका देखकर में भी अंदर चला गया। वो एक बड़ी होटल की तरह का कमरा था, उसमे एक बड़ा बेड था और टीवी, फोन रखे हुए थे। दोस्तों वो कमरा महक भी रहा था। उसने ऐ.सी. को चालू कर दिया और बाथरूम का दरवाज़ा खुला हुआ था, मैंने अब अंदर झांककर देखा कि वो बहुत बड़ा और सुंदर भी था। अब हमने अंदर से दरवाज़ा बंद कर लिया में पलंग पर बैठ गया और मैंने अपने जूते उतारकर में पलंग पर दीवार से अपनी पीठ को लगाकर लेट गया। फिर मैंने टीवी को चालू किया और में देखने लगा और उस समय प्रिया पलंग के पास खड़ी हुई थी। वो मुझे ही लगातार देखे जा रही थी। दोस्तों तेज गति से साँस लेने की वजह से उसके बूब्स ऊपर नीचे हो रहे थे, मैंने उसकी तरफ अपने एक हाथ को आगे बढ़ा दिया और कुछ देर के बाद उसने मेरा हाथ पकड़ा।

फिर मैंने तुरंत ही उसको पलंग पर खींच लिया और वो बड़ी ही अदा से मेरी छाती पर आ पड़ी। हम आधे लेटे हुए थे, जिसकी वजह से उसका सर उस समय मेरी छाती पर था। दोस्तों अपने एक हाथ से में उसको थामे हुए था और एक हाथ से मैंने उसके गालों को छुआ, उसने अपनी आँखों को तुरंत बंद कर लिया। दोस्तों उस समय वो दुल्हन की तरह सजी हुई थी और उसने साड़ी गहने भी पहने हुए थे और उसके बदन की मदहोश कर देने वाली उस महक से में दीवाना हो गया था। अब मैंने उसके माथे पर चूम लिया और आज में भी उसके साथ सुहागरात मनाने के मूड में था और प्रिया एक 29 साल की कुंवारी लड़की थी, इसलिए में यह बात भी अच्छी तरह से जानता था कि उसको क्या चाहिए? फिर मैंने उसकी बंद आँखों को चूमा और में एक हाथ को उसके बालों में घुमाने लगा और वो किसी नयी दुल्हन की तरह शरमा रही थी। उसका एक हाथ मुझे अपने घेरे में लिए हुए था। फिर में उसके ऊपर कुछ झुका और मैंने अपने होंठ उसके होंठों से लगा दिए, जिसकी वजह से वो काँप गई और ज़ोर से उसने मुझे अपनी बाहों में भर लिया। अब में उसके रसीले होंठो को चूस रहा था और वो भी मेरे होंठो को चूस रही थी, कुछ देर होंठ चूसते हुए वो इतनी बैचेन हो गई कि उसने अपने दोनों हाथों से मेरे दोनों गाल पकड़े और ज़ोर ज़ोर से सर को घुमाकर वो मेरे होंठो को चूसने लगी, वो पागलों की तरह मेरे होंठो को चूमती रही।

Loading...

दोस्तों एक समय तो में भी छटपाटने लगा था। वो इतनी गरम हो चुकी थी कि वो एक भूखी शेरनी बन गई थी और उस समय उसके बड़े आकार के मुलायम बूब्स मेरी छाती पर दब रहे थे। फिर मैंने भी अपना एक हाथ उसके सर के पीछे ले जाकर उसका सर पकड़कर पूरे ज़ोर से उसके होंठो को में चूसने लगा था और करीब दस मिनट तक हम बस वही सब करते रहे। फिर कुछ देर के बाद हम अलग हुए हम दोनों ही बुरी तरह से हाँफ रहे थे, हम दोनों बिस्तर पर अलग अलग लेटे हुए थे। फिर कुछ देर बाद जब हम सामान्य हुए तो में उसकी तरफ पलटा वो अपनी आँखों को बंद किए लेटी थी। अब मैंने उसको गर्दन पर चूमते हुए उसके बूब्स पर चूमने लगा और साड़ी का पल्लू उसकी छाती से अलग करते ही में एकदम चकित रह गया, वाह क्या मस्त बड़े आकार के मुलायम बूब्स थे? एकदम गोरे गोलमटोल बूब्स को देखकर में मचल उठा। फिर मैंने अपने दोनों हाथ उसके दोनों बूब्स पर रख दिए और में सहलाने लगा, उसकी साँसे तेज़ गति से चलने लगी और वो मेरी तरफ देखने लगी। फिर मैंने उसके बूब्स को सहलाते हुए अपना मुहं उसके ब्लाउज में डाल दिया, जिसकी वजह से वो मचल उठी और उसने मेरा सर अपने दोनों हाथों से पकड़कर बूब्स पर दबा दिया और में अपने होंठो को उसके बूब्स पर फेरे जा रहा था।दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर मैंने एक हाथ से उसके ब्लाउज के बटन खोल दिए और देखा कि वो गुलाबी रंग की रूपा की ब्रा पहने हुए थी वाह क्या सेक्सी ब्रा थी मज़ा आ गया। फिर में कुछ देर ब्रा के ऊपर से ही बूब्स दबाता रहा और अपने होंठ फेरता रहा और में बूब्स से नीचे होते हुए उसके पेट और नाभि पर आ गया और उसकी कमर को चूसा उसकी हालत बहुत खराब हो चुकी थी। फिर में एक झटके से बिल्कुल नीचे उसके पैरों के पास पहुँच गया और उसके पैरों को चूमते हुए उसकी साड़ी को ऊपर करते हुए जांघो तक आ गया, वाह क्या सुंदर सेक्सी जांघे थी? में दोनों जांघो पर अपने होंठो को रगड़ रहा था, जिसकी वजह से वो मदहोश हो रही थी और अपना सर ज़ोर ज़ोर से इधर उधर घुमा रही थी और अपने होंठो को दाँतों से चबा रही थी। फिर मैंने अपने दोनों हाथ उसकी दोनों जांघो से सरकाते हुए उसकी पेंटी को पकड़ लिया और पेंटी को नीचे खींच दिया, मेरी इस हरकत की वजह से वो चहक गई और उसने अपने दोनों हाथों से मेरा सर पकड़कर अपनी चूत पर दबा दिया। दोस्तों वो बहुत ही मस्त सुंदर चूत थी और वो एकदम मलाई की तरह चिकनी ब्रेड की तरह उठी हुई बिल्कुल साफ उस चूत पर एक भी बाल नहीं था और वो महक भी रही थी।

अब मैंने अपना काम शुरू कर दिया, में अपने दोनों हाथ से उसके बूब्स को सहलाते हुए उसकी चूत को चाटने लगा था और वो अपनी कमर को ज़ोर ज़ोर से ऊपर उछालने लगी थी। उसके मुहं से सीईईई सीईईईई की आवाज निकलने लगी थी और करीब दस मिनट तक चूत को चाटते हुए उसने एक बार अपना पानी छोड़ दिया था, क्योंकि उसको बहुत आनंद आ रहा था। फिर में अलग हुआ, वो भी बैठ गई और मेरी शर्ट के बटन खोलने लगी। मैंने पेंट को खोलना शुरू किया तो उसने शर्ट को उतारने के बाद मेरी छाती पर बहुत ही प्यार से हाथ फेरा और अपने होंठो को मेरी छाती से लगा दिया और ज़ोर ज़ोर से मेरी छाती पर होंठ घुमाने लगी। अब में अपनी पेंट को भी उतार चुका था और फिर मैंने उसकी ब्रा को भी अलग कर दिया, जिसकी वजह से उसके बूब्स बाहर आ गये। दोस्तों उसके इतने बड़े आकार के सुंदर बूब्स को देखकर में भी बेकाबू हो गया और मैंने उसको अपनी छाती से चिपका लिया, जिसकी वजह से उसके बूब्स मेरी छाती से दब गए। अब उसको और मुझे भी बहुत अच्छा लगा। फिर कुछ देर के बाद मैंने उसकी नाभि के नीचे साड़ी के अंदर हाथ को डाल दिया, वो मुझे देखने लगी कि में यह क्या कर रहा हूँ?

Loading...

फिर में मुस्कुराया और मैंने अंदर से उसकी साड़ी का तह किया हुआ हिस्सा पकड़ा और हाथ को बाहर खींच लिया, जिसकी वजह से एक ही झटके में उसकी वो साड़ी एकदम से खुल गई। अब वो हंसने लगी, मैंने उसकी साड़ी को अलग किया और अब वो पेटीकोट में थी पेटीकोट में ही उसके कूल्हों का आकर देखकर में पागल हो गया, क्योंकि उसकी गांड बहुत ही गोल ऊपर उठी हुई और आकार में बड़ी भी थी और मुझे साड़ी में कूल्हों को देखना बहुत पसंद है। दोस्तों राह चलती औरतो की में सबसे ज्यादा उनकी गांड को ही देखता हूँ क्योंकि मेरा मानना है कि अगर औरत के कूल्हे अच्छे आकर में ना हो तो उसको देखकर सेक्स की बिल्कुल भी इच्छा नहीं होती और अगर कोई साड़ी पहने हुए अच्छे बड़े गोल कूल्हे दिख जाए तो लंड तभी झटके से खड़ा हो जाता है। दोस्तों ठीक वैसे ही प्रिया के कूल्हे थे जिसको देखकर मेरा लंड और भी पागल हो गया था और जोश में आकर मैंने उसका पेटीकोट भी उतार दिया, जिसकी वजह से अब वो मेरे सामने बिल्कुल नंगी थी। फिर मैंने उसकी गांड को बहुत प्यार किया, सहलाया चूमा अब उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और एक हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया, लेकिन में अभी भी अंडरवियर में ही था। वो ऊपर से ही मेरे लंड को दबा रही थी।

फिर अचानक से उसने मेरी अंडरवियर को नीचे खींच दिया और मैंने पूरी अंडरवियर को बाहर निकाल दिया और वो मुझसे कहने लगी कि प्लीज अब कब तक तुम मुझे ऐसे ही तड़पाते रहोगे? प्लीज जल्दी से अंदर डालो ना। अब मैंने भी बिना देर किए उसके दोनों पैरों को अपनी कमर पर रखकर उसकी चूत पर अपने लंड को रख दिया, लेकिन उसने पहले से ही अपनी दोनों आँखों को बंद कर लिया और फिर मैंने अपना लंड उसकी कुँवारी चूत पर रगड़ना शुरू किया। फिर धीरे से लंड को चूत के अंदर डाल दिया और वो दर्द की वजह से झटपटा गई, अभी मेरा थोड़ा सा ही लंड अंदर गया था, लेकिन वो पागल होने लगी थी और अभी उसको असली दर्द का अहसास नहीं था, क्योंकि मैंने अभी थोड़ा सा लंड चूत के अंदर किया था, जिसकी वजह से वो इतनी मचल रही थी। फिर अचानक से उसने अपने दोनों पैरों से मुझे कसकर जकड़ लिया और अपने दोनों हाथ बिस्तर पर टिकाकर अपनी कमर से एक ज़ोरदार झटका देकर उसने मेरे लंड पर एक भरपूर वार कर दिया। अब मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया, मेरे लंड की चमड़ी ऊपर चड़ गई थी जिसकी वजह से मुझे बहुत दर्द हुआ और में दर्द की वजह से चीख पड़ा और मेरे साथ वो भी चीख पड़ी, क्योंकि उसको भी बहुत दर्द हो रहा था।

अब मेरे उसकी चूत में लंड को डालते ही वो इतनी उत्तेजित हो गई थी कि में बता नहीं सकता और हम दोनों कुछ देर वैसे ही रुक गये। मेरा लंड अब भी उसकी चूत में था और कुछ देर के बाद दर्द कम होने पर में आगे पीछे हुआ। अब हम दोनों को कुछ अच्छा लगने लगा था और फिर मैंने धीरे धीरे अपने धक्को की रफ्तार को बढ़ा दिया, जिसकी वजह से उसको भी मज़ा आने लगा था और वो भी अपनी गांड को उठा उठाकर मेरा साथ दे रही थी। दोस्तों करीब तीस मिनट तक मैंने उसी एक आसन से उसकी चुदाई के मज़े लिए और इतने समय में वो ना जाने कितनी बार झड़ चुकी थी। फिर वो मुझसे कहने लगी कि अब बस तुम अपना काम खत्म कर दो, अब मुझसे ज्यादा देर सहन नहीं होगा, तुमने मुझे आज जीते जी स्वर्ग की सेर करा दी है, मेरी आत्मा ना जाने कब से प्यासी थी और हाँ में जब 9th क्लास में पढ़ती थी तब से लंड की प्यासी थी और अब मैंने 29 साल की उम्र में यह पाया है, इसलिए में तुम्हारी बहुत अहसान मंद हूँ। फिर यह सब कहकर उसने मुझे अपनी बाहों में भर लिया और मैंने अपने धक्को की रफ्तार को बढ़ा दिया और करीब दस मिनट और करने के बाद भी में नहीं झड़ा और वो मुझसे कहने लगी कि तुम झड़ क्यों नहीं रहे हो, प्लीज अब मेरी कमर दर्द कर रही है।

दोस्तों में मुस्कुरा गया क्योंकि मैंने उसको तो पूरी तरह से संतुष्ट कर दिया था, लेकिन में अभी भी संतुष्ट होना चाहता था। अब मैंने उसको कहा कि हाँ ठीक है अच्छा तुम मेरे ऊपर आ जाओ और वो बोली कि हाँ ठीक है, लेकिन जल्दी से काम खत्म कर देना। फिर मैंने उसको कहा कि हाँ ठीक है, वो मेरे ऊपर आ गई, मैंने उसकी चूत में अपना लंड डाला और उसने अपनी चूत का पूरा भार मेरे लंड पर रख दिया वो कुछ आगे पीछे हुई जिसकी वजह से मुझे अच्छा लगने लगा था। फिर मैंने अचानक से उसकी कमर को अपने दोनों हाथों से पकड़कर उसको ऊपर उठा दिया, जिसकी वजह से अब उसका भार उसके ही दोनों घुटनों पर था। अब मैंने अपने दोनों पैरों को बिस्तर पर टिकाकर अपनी गांड को ऊपर उठा दिया और ज़ोर ज़ोर से उसकी चूत पर अपने लंड से वार करने लगा, लेकिन मुझे कुछ परेशानी हुई जिसकी वजह से में रुक गया और मैंने अपने सर के नीचे एक तकिया रख लिया और में एक बार फिर से शुरू हो गया। अब में बड़ी तेज रफ्तार से उसको चोद रहा था और वो भी मछली की फड़क रही थी, करीब दस मिनट तक लगातार चोदने के बाद मैंने उसकी चूत में अपना सारा वीर्य निकाल दिया।

अब में शांत हो गया और वो मेरे ऊपर लेट गई। फिर दस मिनट तक हम दोनों वैसे ही लेटे रहे और फिर हम अलग हुए, दोनों बाथरूम गये और हम दोनों ने अपने आप को साफ किया और हम दोनों ही नंगे थे। हमारे बदन पसीने से लतपथ हो रहे थे। फिर मैंने फव्वारे को खोल दिया और हम दोनों उसके नीचे खड़े थे, अब उसका वो गोरा गीला बदन देखकर में एक बार फिर से जोश में आ गया और हम दोनों एक दूसरे से लिपट गये और हमारे ऊपर पानी लगातार गिरे जा रहा था। दोस्तों हम दोनों करीब पन्द्रह मिनट तक एक दूसरे के बदन से खेलते रहे और फिर में उसके पीछे आया। अब मैंने उसको आगे की तरफ झुका दिया और अपना लंड पीछे से मैंने उसकी गांड में डालना चाहा, लेकिन उसने मना कर दिया। फिर में भी मान गया और मैंने अपना लंड उसी तरह उसको और आगे झुकाकर उसकी चूत में डाल दिया। वो झुकी हुई थी और अपने दोनों हाथों से नल को पकड़े हुए थी। अब मैंने आगे पीछे होना शुरू किया, जिसकी वजह से उसको भी मज़ा आने लगा था, इसलिए वो भी अपनी गांड को आगे पीछे कर रही थी। फिर मैंने अपनी रफ्तार को बढ़ा दिया और मेरे दोनों हाथ उसके कूल्हों को कसकर पकड़े हुए थे और दस मिनट की जबर्दस्त चुदाई के बाद वो मुझसे कहने लगी कि मेरी कमर में दर्द हो रहा है प्लीज अब तुम खत्म कर दो।

फिर मैंने अपनी रफ्तार को बढ़ाया और ज़ोर ज़ोर से धक्के मारकर मैंने उसकी चूत में अपना वीर्य निकाल दिया और वो पानी हमारे ऊपर लगातार गिरे जा रहा था। दोस्तों गिरते पानी में चुदाई का क्या आनंद आता है यह बात वो समझ सकता है जिसने ऐसा किया हो और फिर हम दोनों अलग हुए और एक दूसरे को बाहों में भरकर बहुत प्यार किया। अब हम दोनों बाथरूम में नहा रहे थे और नहाकर हम लोग बाहर आए, प्रिया बहुत खुश थी हमने अपने कपड़े पहने और बाहर निकलने के लिए तैयार हो गये। फिर प्रिया ने अपने पर्स से रुपये निकालकर मुझे दे दिए और वो मुझसे कहने लगी कि धन्यवाद अगर तुम ना होते तो जीवन के इस सुख से में ना जाने कब तक महरूम रहती और यह कहकर वो एक बार फिर मुझसे लिपट गई। अब वो मुझसे कहने लगी कि तुम्हें जाने देने को मेरा बिल्कुल भी मन नहीं कर रहा है। फिर मैंने उसको चूमा और कहा कि अगर दोबारा तुम्हे मेरी याद आए तो तुम मुझे फोन कर देना, लेकिन अब यह कोशिश करना कि तुम्हे मेरी ज़रूरत ना पड़े और तुम अपना ध्यान रखना, ठीक है अब हम चलते है। फिर वो मुझसे बोली कि रूको पहले में बाहर देखती हूँ कोई है तो नहीं, मैंने कहा कि हाँ ठीक है।

अब उसने दरवाजा खोला और वो बाहर से दरवाजा बंद करके चली गई और वो दो मिनट में ही वापस आ गई, वो मुझसे कहने लगी कि सब कार्यक्रम हो चुके है अब विदाई हो रही है सब लोग उधर ही है, तुम निकल जाओ। फिर में उसके साथ बाहर आ गया और बरामदे में आने पर मैंने देखा कि उधर सभी लोग थे और हम दोनों भी उस भीड़ में शामिल हो गये और उसके बाद अलग अलग हो गये। अब में धीरे धीरे बाहर की तरफ बढ़ने लगा और प्रिया भी अपनी सहेलियों के साथ शामिल हो गई, लेकिन वो मुझे लगातार देखे ही जा रही थी और फिर मैंने पीछे मुड़कर देखा तो प्रिया की आँखों में आँसू थे। फिर मैंने उसको एक हल्की सी मुस्कान दी और तेज़ी से बाहर निकल गया और किसी को कोई शक नहीं हुआ। दोस्तों यह थी मेरी उस शादी के बीच चुदाई की सच्ची घटना मुझे उम्मीद है कि सभी पढ़ने वालों को यह जरुर पसंद आएगी ।।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


माँ की ममता मेरी चुदाईMom ne chodna sikhaya didi k saath sexy www indian sex stories coसेक्स कहानियाँhindi sexi stroydidi ne pati banaker hotal me chudai sachi kahaniyaमाँ नीकली रंडिmhuje tum nhi tumhara jism chodna h indian xxxsexi hindi kahani comसेक्सी कहाणी कामुकताpatni chalak sax kahanisexi story hindi mBayte.mather.aur.father.saxsa.kahane.hinde.sax.baba.net.indiansexstories conपहली बार चूदाई की ट्रेनिंग केसे देता है लड़कियां को भिडियो मेंsexy kahani newदोस्त तेरी बहन सेक्सी स्टोएउसके हर धक्के के साथ मेरी गांडxxx cukanna mom videobro ne muje mere dosto se chudi krte huye fara sexy stories hindiगोरी गांड वाला दोस्तsexi stroyHINDE SEX STORYKaki ki Kali choot chodaTadpati choothindi story saxChudkad.auratbhabhi ko neend ki goli dekar chodaसेकसी कहानियाmeri chut ki maal chudai ki kahani in Hindi fontindian sex stories in hindi fontshindi sex historyhindi sexcy storiesसासु की चुत में उंगलीरास्ते मे मुझे पकड़ कर चोदाहिंदी सेक्से बुआ का घर ार बस का सफरradiyo ke chudayiववव सेक्स कहानीSaxy hindi kahaniyaविडिया चुत मारती रँडी कोठेचुत में दस लंडंसोते हुए कजिन की पैंटी में हाथsex khaneya Dade sexy stori in hindi fontजबरदस्ती बुरी तरह चुदाई की कहानी इन हिंदीhindi new sexy storiesबस में चूतड़ पर अजीब एहसास लुंड लियाचुदाई का दर्दकैमरे के सामने नंगा कर चुदाई की कहानियाँnew hindi sex storyमौसी चुतhindisexystroieshini sexy storychut mai kale baal wale all anty pornMarwadi bhabhi ka doodh chusa do doodh walo ne Ghar par sex storiessexi storijMadam ne duudh piyal mera sexy storiesSex kahanisex stores hindi comसेक्सी कहानीहिन्दी मेsexi hindi estorihindisex storsexestorehindeमौसी के ससुराल में किसी को चोदाhindi sexy stoiresसास कि दो लंड चूदाई कि है रात मेँबॉस की पर्सनल रण्डी बनीsex story hindi memaami ka sote shamy nado kholkar chodwaya kahani hindi mअपने दोस्त की माँ को चोदाअमन अपनी चाची को कैसे चोदाsexy story hindi mesadi moti cutvala indian saxHindesexykahaniindian sex storyWww.sex new video hindi sexsi stori in hindiबेटी की चोट का दर्द और मेरा बाना प्यार सेक्सी कहानी कॉम नईदो सहेलियों को एक साथ चोदाsex hindi sex storybarsat me sambhog khania