कामुक कोचिंग वाली की फैक्ट्री का उद्घाटन


Click to Download this video!
0
loading...

प्रेषक : राज …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राज है, मेरी उम्र 21 साल है, यह घटना 4 साल पहले की है, जब में 10वीं क्लास में पढ़ता था। मेरी दीदी की एक सहेली थी, जिसका नाम पारूल था, उसकी उम्र तब 26 साल थी। उसकी तब शादी नहीं हुई थी, वो थोड़ी साँवली थी, उसकी हाईट 5 फुट 9 इंच थी, वो थोड़ी मोटी थी, उसके बूब्स का साईज़ 48 C था और उसकी गांड देखते ही ज़ोर-ज़ोर से दबाने का मन करता था और उसकी चूत में लंड डालकर उसके रसीले होंठ चूसने का मन करता था। में उससे 7वीं क्लास से कोचिंग पढ़ता आ रहा था, कोचिंग के वक़्त वो ज़्यादातर घर में अकेली रहती थी क्योंकि उसकी छोटी बहन हॉस्टल में रहती थी, उसके पापा ऑफीस में होते थे और उसकी माँ की मौत उसकी बहन के जन्म पर हो गयी थी। उसने मुझे 9वीं क्लास तक रेग्युलर पढ़ाया था, लेकिन 10वीं क्लास में वो मुझे फर्स्ट और सेकंड टर्म तक नहीं पढ़ा पाई क्योंकि उसके भी एग्जॉम थे। फिर में थर्ड टर्म में फिर से उससे कोचिंग पढ़ने जाने लगा, तो अब वो मुझे फ्रेंड की तरह ट्रीट करती थी।

फिर एक दिन वो टेबल पर बैठकर मुझे पढ़ा रही थी, तो वो पढ़ते-पढ़ते आगे को झुक गयी और मुझे उसके सूट में से उसके बूब्स दिखने लगे। अब में उसके बूब्स की गोलाईयों को बड़े ध्यान से देख रहा था, अब मेरा लंड भी खड़ा होकर उसके बूब्स को सलामी देने लगा था। फिर अचानक से उसने मुझे देखा तो में बुक में देखने लगा, तो तभी उसने मुझसे पूछा कि देव तुम क्या देख रहे थे? तो मैंने कहा कि कुछ नहीं। तो उसने कहा कि झूठ मत बोलो में सब जानती हूँ और फिर उसने कहा कि जो तुम देख रहे थे उसका नाम भी जानते हो? तो मैंने धीरे से कहा कि बूब्स, तो यह सुनते ही उसकी आँखें फटी की फटी रह गयी।

फिर उसने मुझसे कहा कि मुझे नहीं पता था कि तुम इतनी गंदी भाषा का यूज़ करते हो। फिर उसने अपनी चूत की तरफ इशारा करके कहा कि फिर तो तुम्हें इसका नाम भी पता होगा? तो मैंने कहा कि हाँ चूत और इसका (मेरे लंड की तरफ इशारा करके)? तो मैंने कहा कि लंड। फिर उसने कहा कि अब पता चला की तुम्हारे फर्स्ट और सेकंड टर्म के एग्जॉम में साइन्स में मार्क्स कम क्यों आए थे? क्योंकि तुमने साइन्स की बुक खोलकर ही नहीं देखी अगर खोलकर देखी होती तो तुम इन तीनों का नाम बूब्स, चूत और लंड ना बताते। अब यह शब्द सुनते ही मेरा लंड और टाईट हो गया था, अब में पहले तो सोच में पढ़ गया था कि इन सबका साइन्स की बुक से क्या मतलब? फिर मुझे ध्यान आया की बुक में एक चेप्टर सेक्स के ऊपर भी है। तो उसने मुझसे कहा कि चलो साइन्स की बुक में रिप्रोडक्षन चेप्टर निकालो और फिर वो मुझे वो चेप्टर पढ़ाने लगी।

मैंने पढ़ते-पढ़ते एक वर्ड की और इशारा करते हुए पूछा कि इसका क्या मतलब है? तो उसने कहा कि जिसे तुम चूत कहते हो, उसे साइन्स में वेजाइना कहते है। फिर उसने एक डायग्राम की और इशारा करते हुए कहा कि देखो ऐसी होती है चूत। तो मैंने उससे कहा कि अब आप क्यों बार-बार यह शब्द (चूत) बोल रही हो? तो उसने कहा कि ताकि जिससे तुम्हें जल्दी समझ में आ जाए। तो मैंने पारूल से कहा कि मुझे इस फोटो में कुछ समझ में नहीं आ रहा है। तो उसने गुस्से से कहा कि तुम क्या चाहते हो कि में तुम्हें प्रेक्टिकली अपनी चूत दिखाऊँ? तो में चुप हो गया। फिर वो थोड़ा सोचकर बोली कि ठीक है में तुम्हें अपनी चूत दिखा दूँगी, लेकिन मेरी एक शर्त होगी। तो अब यह सुनते ही मेरे मन में खुशी के लड्डू फूटने लगे तो फिर मैंने पूछा कि कैसी शर्त? तो उसने कहा कि में तुम्हें अपनी चूत दिखाऊँगी अगर तुमने किसी को बता दिया तो इसलिए तुम्हें भी अपना मुझे लंड दिखाना पड़ेगा। तो यह सुनते ही मैंने मन में कहा कि हाँ क्यों नहीं, कभी बिन बदल के बारिश हुई है आज तो यह ज़रूर मुझसे चुदेगी।

फिर मैंने उससे कहा कि मुझे शर्म आएगी, तो उसने कहा कि कोई शर्म की बात नहीं है हम साइन्स का प्रेक्टिकल ही तो कर रहे है, अच्छा अगर तुम्हें शर्म आ रही है तो में तुम्हारी पेंट उतार देती हूँ, तो में अंजान बना खड़ा रहा। फिर वो मेरी पेंट उतारने लगी और मेरी पेंट उतरते ही उसने मेरी अंडरवेयर के ऊपर से जब मेरा खड़ा लंड देखा तो बोली कि अरे यह एसिड की बोतल खड़ी कैसे हो गयी? तो मैंने कहा कि पता नहीं। तो उसने कहा कि चलो अभी देखते है और फिर एक ही झटके में मेरा अंडरवेयर भी उतार दिया और मेरा अंडरवेयर उतरते ही मेरा लंड उसे दिखने लगा। फिर उसने कहा कि अब पता चला और उसे गौर से देखने लगी और फिर उसने कहा कि अब पता चला कि तुम्हारी एसिड की बोतल (लंड) क्यों खड़ी है? क्योंकि यह भर चुकी है, फैक्टरी में काम चल रहा है। तो मैंने पूछा कि यह फैक्टरी कहाँ है? तो उसने मेरे अंडों पर अपना हाथ रखकर कहा कि यह है फैक्टरी जहाँ एसिड यानी वीर्य बनता है।

loading...

फिर उसने मेरा लंड अपने हाथ में ले लिया, तो उसके हाथ में लेते ही मुझको करंट सा लगा तो मैंने मन में कहा कि अगर हाथ में लेने से इतना करंट है तो चूत में तो पूरा ट्रान्सफॉर्मर लगा हुआ होगा। तो वो बोली कि पहले इस फैक्टरी में एसिड बनता है और फिर इस बोतल में आता है और फिर इस बोतल से निकलकर टेस्ट ट्यूब में जाता है और फिर 9 महीने तक एक्सपेरिमेंट चलता है और फिर रिज़ल्ट आता है। तो फिर मैंने पूछा कि अब ये टेस्ट ट्यूब कहाँ है? तो उसने कहा कि तुमने अभी तक टेस्ट ट्यूब देखी नहीं है, जब देखोगे तो पता चल जाएगा। फिर वो अपना सूट उतारने लगी, अब उसके बूब्स उसकी ब्रा से बाहर आने के लिए लड़ रहे थे। फिर उसने अपनी पेंटी भी उतार दी, तो मैंने उससे पूछा कि टेस्ट ट्यूब कहाँ है? तो उसने कहा कि ऐसे नहीं दिखेगी में टेबल पर लेटती हूँ फिर दिखेगी, तो फिर वो टेबल पर लेट गयी। फिर मैंने जब उसकी चूत देखी तो में देखता ही रह गया, अब उसकी चूत में से निकलते पानी को देखकर ऐसा लग रहा था कि जैसे उसकी चूत लंड अंदर लेने के लिए अपनी लार टपका रही हो। फिर मैंने एकदम से उसकी चूत पर अपना हाथ रख दिया, तो उसकी सिसकारी निकल पड़ी और कहा कि अच्छा तो यह है टेस्ट ट्यूब। तो उसने कहा कि हाँ, अच्छा अब तो तुम्हें चूत का डायग्राम समझ में आ गया ना? तो मैंने कहा कि हाँ 1 मिनट ज़रा अच्छी तरह से देख लूँ। फिर में उसकी चूत की दरार पर अपनी एक उंगली फैरने लगा, तो वो सिसकारी भरने लगी। फिर उसके बाद मैंने टेबल की साईड पर आकर पूछा कि बूब्स को क्या कहते है? तो उसने बड़े सेक्सी अंदाज़ में कहा कि ब्रेस्ट या बूब्स कहते है अगर तुम इनको देखना चाहते हो तो देख सकते हो। तो फिर मैंने उसकी ब्रा खोल दी और उसकी ब्रा के हटते ही ऐसा लगा जैसे उसके बूब्स मुझे थैंक्स कह रहे हो। फिर मैंने उससे अंजान बनकर पूछा कि यह किस काम आते है? तो उसने कहा कि यह फैक्टरी 9 महीने के बाद रिज़ल्ट आने पर चलती है और में बातों-बातों में उसके बूब्स दबाने लगा, तो वो कराहने लगी सस्स्स्स हाईईईई, आआहह, म्‍म्म्मम अहह सस्स्स्स्स्सस्स।

फिर मैंने उसके दोनों निपल्स को अपनी उंगलियों में लेकर पूछा कि यह क्या है? तो उसने कहा कि यह फैक्टरी की चिमनियाँ है यहाँ फैक्टरी में जो दूध बनता है, वो निकलता है। तो में नीचे झुका और उसका लेफ्ट निपल अपने मुँह में लेकर चूसने लगा। तो वो धीरे से चीख पड़ी और बोली कि देव क्या कर रहे हो? आराम से चूसो ना, तो फिर में बारी-बारी से उसके दोनों निपल्स को चूसने और काटने लगा। तो वो बोली कि काट क्यों रहे हो? मेरी चिमनियाँ टूट जाएँगी। तो में कुछ नहीं बोला और बड़े आराम से चूसता रहा और चूसते-चूसते अपना एक हाथ नीचे उसकी चूत पर ले गया और अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा। तो उसकी सिसकारी फुट पड़ी आआअहह, सस्स्स्स्सस्स्स्सस्स, उूउउम्म्म्मममम। फिर में उठकर उसके सिर के पास गया और अपना लंड उसके मुँह पर रख दिया, तो उसने अपना मुँह खोलकर मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी और मेरे लंड के टोपे पर अपनी जीभ फैरने लगी।

loading...

अब उधर में उसके ज़ोर-जोर से बूब्स दबा रहा था, तो वो 15 मिनट तक लगातार मेरा लंड चूसती रही। फिर मैंने अपना सारा वीर्य उसके मुँह में ही निकाल दिया, अब वो टेबल पर अपनी पीठ के बल लेटी थी इसलिए मेरा वीर्य उसके मुँह से निकलकर उसकी आँख की तरफ जाने लगा। तो मैंने अपनी उंगली से सारा वीर्य साफ किया और अपनी उंगली उसके मुँह में डाल दी, तो वो अपनी जीभ से चाटकर मेरी उंगली पर लगा सारा वीर्य पी गयी। फिर में उसकी जांघो के बीच में गया और उसकी जांघो को अपनी जीभ से चाटने लगा और चाटते-चाटते में उसकी चूत पर अपनी जीभ फैरने लगा और उसका लव जूस पीने लगा। फिर मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा, तो वो मादक आवाजें निकालकर मुझे उत्तेजित करने लगी आआआम्‍म्म, उन उन उन उन्ह, सस्स्सस्स आह, आआ और अंदर देव और फिर थोड़ी देर के बाद वो भी झड़ गयी।

अब इतने में मेरा लंड फिर से जोश में आ चुका था और छुपने के लिए कोई छेद ढूंढ रहा था। फिर में सीधा खड़ा हुआ और अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रखकर रगड़ने लगा जैसे बकरा हलाल करने से पहले उसे सहलाया जाता है। पारूल की अभी तक चूत की सील टूटी नहीं हुई थी, अब यह सब देखकर में और भी खुश हो गया था। फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रखकर धीरे से झटका मारा तो मेरे लंड का टोपा उसकी चूत में चला गया और वो चीख पड़ी आआआअहह, सस्स्स्स्सस्सस्स यार धीरे से डाल ना, मेरी जान निकल रही है। तो फिर मैंने एक झटका और मारा, तो उसकी चूत गीली होने से मेरा लंड और अंदर चला गया। फिर मैंने और ज़ोर से एक झटका मारा तो मेरा लंड आधा और अंदर चला गया और उसकी सील भी टूट गयी।

फिर मैंने कहा कि मुबारक हो जानम तुम्हारी फैक्टरी का उद्घाटन हो गया है। तो वो चीख पड़ी है फाड़ दी साले ने मेरी चूत, हाए बड़ा दर्द हो रहा है। तो मैंने कहा कि रंडी चुपचाप चुदती रह, वरना तुझे आज रेपिस्ट की तरह चोद दूँगा। फिर मैंने एक और झटका मारा तो मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया और वो फिर से चीख पड़ी साले हरामी आराम से नहीँ चोद सकता। अब उसकी चूत और मेरा लंड खून से भर चुके थे। फिर मैंने एकदम से उसकी चूत में से अपना लंड बाहर निकाल लिया, तो मेरे लंड के बाहर निकलते ही एकदम से पच की आवाज़ आई ऐसा लगा जैसे किसी बोतल का ढक्कन खुल गया हो। फिर मैंने उसकी पेंटी से अपना लंड और उसकी चूत साफ की और फिर से अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा। फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत में एंटर कराया और धीरे-धीरे झटके मारने लगा। अब मुझसे ठीक से झटके नहीं मारे जा रहे थे क्योंकि में पहली बार किसी को चोद रहा था।

फिर 5 मिनट के बाद वो बोली कि अपना लंड बाहर निकाल में तुझे चोदती हूँ, चोदना ना जाने आँगन टेढ़ा। फिर उसने मुझे टेबल पर लेटने को कहा, तो में लेट गया। फिर वो मेरे ऊपर टेबल पर चढ़ गयी और नीचे को बैठकर मेरा लंड पकड़ लिया और अपनी चूत के छेद पर रख दिया और उस पर बैठने लगी। फिर जैसे ही मेरा लंड उसकी चूत में गया, तो में धीरे से चीख पड़ा आ आराम से करना रंडी दर्द हो रहा है। तो वो बोली कि क्यों मेरे दलाल अब पता चला ना दर्द कैसे होता है? चल अब तू चुपचाप लेटा रह नहीं तो में आज तेरा रेप कर दूँगी। फिर वो मेरे लंड को अंदर लेने लगी और थोड़े झटकों के बाद मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया। अब मेरा लंड पूरा अंदर जाते ही उसने दर्द के कारण अपनी आँखें बंद कर ली थी। फिर में धीरे-धीरे उसके बूब्स दबाने लगा, फिर थोड़ी देर के बाद हम दोनों का दर्द कुछ कम हो गया और वो धीरे-धीरे ऊपर नीचे होने लगी। तो में भी लेटा-लेटा ऊपर की तरफ धक्के लगाने लगा और उसके बूब्स को ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा। अब हम दोनों की रफ़्तार तेज़ हो गयी थी, फिर 15 मिनट तक हम दोनों एक दूसरे को ऐसे ही चोदते रहे और फिर हम दोनों एक साथ ही झड़ गये।

loading...

फिर मैंने अपना सारा वीर्य उसकी चूत में ही निकाल दिया। अब वो बुरी तरह से थक चुकी थी और फिर वो मेरे ऊपर ही लेट गयी। अब हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे थे। फिर हम दोनों खड़े हो गये तो मैंने उससे कहा कि आज से तुम्हारी फेक्टरी में एक्सपेरिमेंट शुरू। तो उसने कहा कि नहीं हमने प्रेक्टिकल सेफ पीरियड में किया है और फिर हम दोनों हँसने लगे और अपने-अपने कपड़े पहन लिए। फिर इसके बाद में अपनी इंजिनियरिंग की पढाई में लग गया और मुझे फिर कभी दुबारा किसी को चोदने का मौका नहीं मिला।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


hindi sexy sorywww sex story in hindi comsexy stoies hindifree hindi sex story in hindihindi adult story in hindisex kahani in hindi languagesexey stories comwww indian sex stories cohindi saxy storysexy stori in hindi fonthindi sexy storyhindi sexy storyhindi sexi kahanihimdi sexy storyhindisex storiehini sexy storyread hindi sex storiessex sexy kahanistory in hindi for sexhindi sexy istorihinde sexy storykamuktawww hindi sexi storywww sex kahaniyasexy stotyhindi sex story sexsexy storyyhindi sex storey comhindi sx kahanihindi sex kahaniya in hindi fontsex store hindi meall hindi sexy kahanihinde sexy storymaa ke sath suhagratsex khaniya hindihindi se x storiessex store hindi mesext stories in hindihindi sax storehinde six storysex stories for adults in hindikamuka storymaa ke sath suhagrathindi sexcy storiessexy story com in hindisexi hinde storyreading sex story in hindisax stori hindemaa ke sath suhagratsexy sex story hindihindi sexy kahani in hindi fonthindi sex kahaniaindian sax storysx stories hindihindi sexy storuessexy story hindi mehindi sex story hindi mehondi sexy storyhindi audio sex kahaniasexy syory in hindisexstory hindhihindisex storiychut land ka khelsex sexy kahanikamuktha comsexy storyysexy story hibdiwww hindi sex story cohendi sexy storysexy stoerihindi sexy storieasex hindi story downloadsexy stoies in hindi